Kabir Saheb Ke Dohe Hindi Me

Kabir Saheb Ke Dohe Hindi Me

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय।

Kabir ke dohe hindi image (6)

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

Kabir ke dohe hindi image (2)

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

Kabir ke dohe hindi image (3)

जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

Kabir ke dohe hindi image (8)

जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।

Kabir ke dohe hindi image (10)

अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।

Kabir ke dohe hindi image (12)

दुर्लभ मानुष जन्म है, देह न बारम्बार,
तरुवर ज्यों पत्ता झड़े, बहुरि न लागे डार।

Kabir ke dohe hindi image (14)

हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना,
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी मुए, मरम न कोउ जाना।

Kabir ke dohe hindi image (16)

कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई।
बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई।

Kabir ke dohe hindi image (18)

कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस।
ना जाने कहाँ मारिसी, कै घर कै परदेस।

Kabir ke dohe hindi image (20)

तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।

Kabir ke dohe hindi image (5)

Kabir Ji ke famous Dohe Hindi me Photo ke sath

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

Kabir ke dohe hindi image (7)

दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त,
अपने याद न आवई, जिनका आदि न अंत।

Kabir ke dohe hindi image (9)

निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय,
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।

Kabir ke dohe hindi image (13)

कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर।

Kabir ke dohe hindi image (15)

बोली एक अनमोल है, जो कोई बोलै जानि,
हिये तराजू तौलि के, तब मुख बाहर आनि।

Kabir ke dohe hindi image (11)

जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।

Kabir ke dohe hindi image (10)

जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

Kabir ke dohe hindi image (8)

कहत सुनत सब दिन गए, उरझि न सुरझ्या मन।
कही कबीर चेत्या नहीं, अजहूँ सो पहला दिन।

Kabir ke dohe hindi image (17)

कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई।
बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई।

Kabir ke dohe hindi image (18)

Kabir Saheb Ji के 51 famous dohe यहाँ पढे।

Kabir is God

Kabir is God

Kabir is God एक हिन्दी खबर वैबसाइट है जिस पर आप सभी प्रकार की खबरे, कहानियाँ, भजन, दोहे आदि देख और पढ़ सकते है। अगर आपके पास हमारी वैबसाइट से संबन्धित कोई सुझाव है तो हमे जरूर बताए। हमारे साथ सोश्ल मीडिया पर जुड़े।

One thought on “Kabir Saheb Ke Dohe Hindi Me

Leave a Reply

Your email address will not be published.